close button

राजनीति

जवाहरलाल नेहरू  (Jawaharlal Nehru)

‌‌‌पंडित जवाहर लाल नेहरू ( Pandit Jawahar Lal Nehru)
आज़ाद भारत के पहले प्रधानमंत्री। जवाहर लाल नेहरू। 14 नवंबर 1889 को जन्म लिया। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में बढ़-चढ़कर भाग लिया। 1916 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के लखनऊ में हुए अधिवेशन में गांधीजी से मिले। 1929 में लाहौर अधिवेशन में नेहरू को अध्यक्ष चुना गया। ‌‌‌वे ‌‌‌आज़ाद देश चाहते थे और वह भी अपनी मेहनत के बूते। उन्होंने कहा- कुटिलता की नीति अन्त में चलकर फ़ायदेमन्द नहीं होती। हो सकता है कि अस्थायी तौर पर इससे कुछ फ़ायदा हो जाए। अगर हम इस देश की गरीबी को दूर करेंगे, तो क़ानूनों से नहीं, शोरगुल मचाके नहीं, शिकायत करके नहीं, बल्कि मेहनत करके। एक-एक आदमी बूढ़ा और छोटा, मर्द, औरत और बच्चा मेहनत करेगा। हमारे सामने आराम नहीं है।

‌‌‌‌‌‌जलियांवाला बाग नरसंहार की जांच में जवाहरलाल नेहरू देशबंधु चितरंजनदास और गांधीजी के सहयोगी रहे। गांधीजी के असहयोग आंदोलन में भी उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ते वे कई बार जेल गए। उन्होंने अपने जीवन के लगभग 9 साल जेल में ही बिताए। ‌नमक सत्याग्रह और भारत छोड़ो आंदोलन में भी नेहरू जी ने गांधीजी का पूरा साथ दिया। नेहरू को विश्व के बारे में बहुत जानकारी थी। इसलिए गांधीजी उन्हें प्रधानमंत्री पद पर देखना चाहते थे। वे अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ थे। इसलिए जब साइमन कमीशन भारत आया तो नेहरू ने भी इसका विरोध किया। ‌‌‌उन्होंने पुलिस की लाठियां भी झेलीं।

‌‌‌जवाहरलाल नेहरू भारतीय राजनीति को दिशा देते हुए स्वतंत्रता के गवाह बने। वे देश में बनी विभिन्न रियासतों को एक झंडे तले लाने के लिए जी-तोड़ मेहनत करते रहे। हालांकि इसका ज्यादा श्रेय वल्लभ भाई पटेल को ‌‌‌जाता है। ‌‌‌उनकी तटस्थता की नीति पर भारत आज भी कायम है। वे बच्चों से इतना प्यार करते थे कि उनके जन्मदिवस को ही बाल दिवस बना दिया गया।

‌‌‌पूर्व राष्ट्रपति डॉ. राधाकृष्णन ने कहा- जवाहर लाल नेहरू हमारी पीढ़ी के एक महानतम व्यक्ति थे। वह एक ऐसे अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे, जिनकी मानव-मुक्ति के प्रति सेवाएं चिरस्मरणीय रहेंगी। स्वाधीनता-संग्राम के योद्धा के रूप में वह यशस्वी थे और आधुनिक भारत के निर्माण के लिए उनका अंशदान अभूतपूर्व था।

Source: Raftaar Live

News Search

ख़बरें सर्च

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटीः पाठ्यक्रमों से हटा दिए देशभक्तों के नाम

विज्ञापन जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटीः पाठ्यक्रमों से हटा दिए देशभक्तों के नाम उदयपुर वर्तमान में भारतीय इतिहास को पाठ्यक्रमों में विकृत रूप में तोड़ मरोड़कर पढ़ाया जा रहा है। जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी... 

www.bhaskar.com
10 February 2014, 02:26 AM

बलदेव सिंह के लिए नेहरू ने की रैली

बलदेव सिंह के लिए नेहरू ने की रैली बलदेव सिंह के लिए नेहरू ने की रैली बलदेव सिंह के लिए नेहरू ने की रैली मंगत राम को हराया देश के पहले लोकसभा चुनाव में होशियारपुर सीट से भारतीय जनसंघ पार्टी के मंगत... हराकर बलदेव सिंह रक्षा मंत्री बने। इससे पहले देश विभाजन के बाद रिफ्यूजी को बसाने के लिए पहली बार में जवाहरलाल नेहरु होशियारपुर पहुंचे थे। उनके साथ तब के पाक प्रधानमंत्री लियाकत अली खान भी पहुंचे जिनका लोगों... 

www.bhaskar.com
22 April 2014, 11:25 PM

नेहरू ने किया था 1962 की जंग का आगाज

नेहरू ने किया था की जंग का आगाज नेहरू ने किया था की जंग का आगाज नई दिल्ली भारत चीन के बीच की जंग के लिए मैं चीन को नहीं बल्कि भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को जिम्मेदार मानता हूं। ये कहना... 

www.pressnote.in
03 April 2014, 02:49 AM

जवाहरलाल नेहरू

जवाहरलाल नेहरू चौथी दुनिया जवाहरलाल नेहरू यह बात लंबे समय से कही जाती रही है कि हिंदी में पाठकों की कमी है साहित्य अकादमी में हिंदी भाषा से पहली बार अध्यक्ष बने विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को भी इस बात का दुख... हैं तो ऐसे में पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के संदेश बेहद प्रासंगिक हो जाते हैं उन्होंने हमेशा देश की एकता और अखंडता को क़ायम रखने पर ज़ोर दिया बक़ौल जवाहरलाल नेहरू हिंदुस्तानी ज़िंदगी में कितनी विविधता... 

www.chauthiduniya.com
13 October 2013, 06:30 PM

चीन ने नहीं नेहरू ने किया था 1962 की जंग का आगाज

विज्ञापन चीन ने नहीं नेहरू ने किया था की जंग का आगाज नई दिल्ली भारत चीन के बीच की जंग के लिए मैं चीन को नहीं बल्कि भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को जिम्मेदार मानता हूं। ये कहना है ऑस्ट्रेलियाई... भारत चीन युद्ध पर लिखी अपनी किताब में रिपोर्ट का व्यापक इस्तेमाल किया था। अंदर पढ़ें मैक्सवेल ने नेहरू को क्यों ठहराया युद्ध का जिम्मेदार और युद्ध का सैनिकों ने भी किया था विरोध ये भी पढ़िए आपके विचार... 

www.bhaskar.com
03 April 2014, 02:00 AM

नेहरू की नीतियों की वजह से हुआ था भारतचीन युद्ध

विज्ञापन नेहरू की नीतियों की वजह से हुआ था भारत चीन युद्ध नई दिल्ली भारत और चीन के बीच का युद्ध जवाहरलाल नेहरू की गलत नीतियों के कारण हुआ था। और इसी वजह से भारत को इस युद्ध में हार का सामना भी करना... गोपनीय दस्तावेज हेंडरसन ब्रूक्स रिपोर्ट का हवाला दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक तत्कालीन प्रधानमंत्री नेहरू की सरकार ने चीन से लगे सीमावर्ती इलाकों में फॉरवर्ड पॉलिसी अपना रखी थी। इसके तहत उन इलाकों में सुरक्षा... 

www.bhaskar.com
26 March 2014, 06:48 AM

क्या आप जानते हैं जवाहरलाल नेहरू की ससुराल कहां हैं

विज्ञापन क्या आप जानते हैं जवाहरलाल नेहरू की ससुराल कहां हैं राजस्थान के साथ नेहरू परिवार की तीन पीढ़यों के आत्मिक संबंध रहे हैं। नेहरू जी के पिता पं मोतीलाल नेहरू क प्रारंभिक शिक्षा खेतड़ी में ही काजी... सदरुद्दीन द्वारा हुई थी। पं जवाहर लाल नेहरू की जन्मपत्री भी खेतड़ी के राजपंडित रूडमल शर्मा ने बनाई। क्या आपको पता है जवाहर लाल नेहरू की ससुराल कहां हैं पं नेहरू की ननिहाल अजमेर में और ससुराल जयपुर के... 

www.bhaskar.com
16 August 2013, 10:40 AM
विज्ञापन

Photo Search

फ़ोटो सर्च

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer : raftaar.in indexes third party websites as a search engine and does not have control over, nor any liability for the content of such third party websites. This is an automated technology to crawl the web and does not intend to infringe on rights of any site. However, if you believe that any of the search results, link to content that infringes your copyright, please email us at admin at raftaar.in and we will drop it from our automated index.